दुनिया के सबसे बड़े मुस्लिम देश के नोट में क्यों छपी है गणपति की तस्वीर? जानिए रहस्य

If you like the post, Please share the link

दुनिया के सबसे बड़े मुस्लिम देश के नोट में क्यों छपी है गणपति की तस्वीर? जानिए रहस्य

नई दिल्ली। आज देश में गणेश चतुर्थी का उत्सव मनाया जाता है। हिंदू धर्म के अनुसार भगवान गणेश को प्रथम माना जाता है, किसी भी धार्मिक अनुष्ठान में सबसे पहले भगवान गणेश की ही पूजा की जाती है, भगवान गणेश को भारत में बड़ी श्रद्वा के साथ पूजा जाता है। देशभर में सादगी के साथ गणेश चतुर्थी यानि की भगवान गणेश का जन्मोत्सव मनाने की तैयारी की गई है। आज सूर्यास्त के साथ ही श्रद्धालुओं द्वारा भगवान शिव की मूर्ति स्थापना की जाएगी। 22 अगस्त को गणेश चतुर्थी पर गणेश प्रतिमा स्थापित कर उत्सव 10 दिनों तक चलेगा। चाहे बात महाराष्ट्र की करें या फिर दिल्ली की, हर कोई गणेश चतुर्थी के पहले दिन काफी खुश दिखाई दे रहा है।

सबसे बड़े मुस्लिम देश के नोट में छपी है तस्वीर
सिर्फ भारत ही नहीं, बल्कि कई देशों में गणेश जी की पूजा की जाती है। ऐसे में आज हम आपको एक ऐसी बात बताने जा रहे हैं, जो कुछ ही लोगों को पता है। दुनिया में मुस्लिम आबादी वाला एक ऐसा देश है जहां गणेश जी की तस्वीर नोट पर छपी है। आइए जानते हैं इसके बारे में। इंडोनेशिया की करेंसी को रूपियाह कहा जाता है। यहां के 20 हजार के नोट पर भगवान गणेश की तस्वीर है। दरअसल भगवान गणेश को इस मुस्लिम देश में शिक्षा, कला और विज्ञान का देवता माना गया है। खास बात ये है कि इंडोनेशिया में करीब 87.5 फीसदी आबादी इस्लाम धर्म को मानती है और सिर्फ तीन फीसदी हिन्दू आबादी है। इंडोनेशिया के इस 20 हजार की नोट पर सामने वाले हिस्से में भगवान गणेश की तस्वीर है, जबकि पीछे वाले हिस्से में क्लासरूम की फोटो छपी है। जिसमें छात्र और शिक्षक की तस्वीरें हैं। 

नोट पर भगवान गणेश की तस्वीर छापने का कारण
दरअसल कुछ साल पहले इंडोनेशिया की अर्थव्यवस्था बुरी तरह से पटरी पर से उतर गई थी। इसके बाद वहां पर 20 हजार का एक नया नोट जारी किया गया था जिस पर भगवान गणेश की तस्वीर को छापा गया था। इसको छापने के पीछे आर्थिक चिंतको का मानना था कि इससे अर्थव्यवस्था फिर से मजबूत हो जाएगी और बाद में ऐसी ही कुछ देखने को मिला था।


If you like the post, Please share the link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed