बाबा केदार के भक्तों को डाक और कोरियर से भेजा जाएगा प्रसाद, घर बैठे ऑनलाइन पूजा की सुविधा भी होगी उपलब्ध

If you like the post, Please share the link

बाबा केदार के भक्तों को डाक और कोरियर से भेजा जाएगा प्रसाद, घर बैठे ऑनलाइन पूजा की सुविधा भी होगी उपलब्ध

रुद्रप्रयाग । कोरोना संक्रमण की वजह से प्रदेश सरकार ने चारधाम यात्रा स्थगित कर दी है। इसके चलते अब केदारनाथ धाम का प्रसाद तीर्थयात्रियों के घर पहुंचाया जाएगा।

कोरोनाकाल में बाबा केदार के भक्तों को डाक और कोरियर से बाबा केदार का प्रसाद भेजने की कार्ययोजना तैयार हो चुकी है। केदारनाथ सोविनियर ग्रोथ सेंटर ने छह वर्षों में चारधाम यात्रा पर आए डेढ़ करोड़ श्रद्धालुओं के फोन नंबर एकत्रित किए हैं जिनसे संपर्क कर प्रसाद भेजा जाएगा। साथ ही श्रद्धालुओं के नाम से धाम में बाबा की पूजा-अर्चना भी होगी। जिलाधिकारी ने भी इस पहल को सराहनीय बताते हुए श्रद्धालुओं से संपर्क करने के लिए मिनी कॉल सेंटर स्थापित करने की बात कही है।

केदारनाथ सोविनियर ग्रोथ सेंटर की ओर से जिले के 136 महिला स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी महिलाओं के माध्यम से चौलाई के लड्डूू के 1 लाख 39 हजार पैकेट, चौलाई पंजरी के 72 हजार पैकेट, धूप के 90 हजार पैकेट, बेलपत्र के 1 लाख 50 हजार पैकेट, शहद के 35 हजार पैकेट, केदारनाथ स्थित उदक कुंड के जल के 45 हजार छोटी प्लास्टिक शीशी, बाबा केदार की समाधि की भस्म के 35 हजार पैकेट तैयार किए जा चुके हैं। अब तक तैयार सामग्री को अलग-अलग व संपूर्ण पैकिंग के साथ वेबसाइट  वेबसाइट पर अपलोड भी कर दिया गया है। 

जिलाधिकारी रुद्रप्रयाग मनुज गोयल ने कहा बाबा केदार के प्रसाद को श्रद्धालुओं तक पहुंचाने के लिए उनसे मोबाइल पर संपर्क किया जाएगा। इसके लिए केदारनाथ सोविनियर ग्रोथ सेंटर की योजना सराहनीय है। जल्द ही कॉल सेंटर स्थापित करते हुए सभी प्रक्रियाएं पूरी की जाएंगी।

वर्ष 2014 से 2019 तक चारधाम यात्रा पर आए डेढ़ करोड़ श्रद्धालुओं के मोबाइल नंबर विभिन्न माध्यमों से एकत्रित किए गए हैं। इन भक्तों से बाबा केदार के प्रसाद व धाम में ऑनलाइन पूजा-अर्चना के लिए संपर्क किया जाएगा। जो भी इच्छुक श्रद्धालु बुकिंग करेंगे, उन्हें प्रसाद उनके घर तक पहुंचाया जाएगा। इसके लिए कार्यालय में मिनी कॉल सेंटर स्थापित की योजना है।


If you like the post, Please share the link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed