हिमाचल में बनी 6 दवाओं समेत देशभर में 25 सैंपल फेल, मार्केट से हटाने के निर्देश

If you like the post, Please share the link

हिमाचल में बनी 6 दवाओं समेत देशभर में 25 सैंपल फेल, मार्केट से हटाने के निर्देश

नालागढ़ (सोलन) । सीडीएससीओ द्वारा मई माह में देशभर से 477 दवाओं के सैंपल एकत्रित किए थे, जिसमें से 452 दवाएं मानकों पर खरा उतरीं और 25 दवाएं सब स्टैंडर्ड पाईं गईं, जिसमें हिमाचल की 6 दवाएं शामिल है। फेल होने वाली दवाओं में मेडिपोल फार्मास्यूटिकल भुड्ड बददी की अलप्राजोलम, मोरपैन लैबोरेट्रीज सेक्टर-2 परवाणु की रि-जर्मीना, बे-बेरी फार्मास्यूटिकल हिमुडा इंडस्ट्रियल एरिया भटौलीकलां की एटोरफस्र्ट-10, यूनिटल फार्मूशन ईपीआईपी फेस-1 झाड़माजरी बददी की डेक्सामैथासोन इंजेक्शन, एसबीएस बायोटेक मौजा रामपुरा जटटां नाहन रोड़ काला अंब सिरमौर की लेवेटाईरोसीटाम, नूतन फार्मास्यूटिकल टिपरा बरोटीवाला की सेफपोडॉक्सीम दवा शामिल है।

इन दवाओं के सैंपल सीडीएससीओ ईस्ट जोन कोलकता, सीडीएससीओ हैदराबाद, सीडीएससीओ वेस्ट जोन मुंबई, सीडीएससीओ सब जोन बददी, ड्रग कंट्रोल डिपार्टमेंट त्रिपुरा से लिए गए है, जबकि इनकी जांच सीडीएल कोलकता, सीडीटीएल मुंबई, आरडीटीएल चंडीगढ़, आरडीटीएल गुवाहटी में की गई है।

यह दवाएं जीएबीए की क्रिया को बढ़ाकर नींद को सामान्य करने, संक्रामक व जीवाणुनाशक संबंधित दस्त, लिपोप्रोटीन या खराब कोलेस्ट्रोल के स्तर को कम करने, एलर्जिक विकार व श्वास रोग, मस्तिष्क की तंत्रिका कोशिकाओं की असामान्य व अत्यधिक गतिविधियों को नियंत्रित करके दौरे व मिर्गियों को नियंत्रित करने, जीवाण्विक संक्रमण के कम अवधि वाले उपचार आदि में प्रयोग में लाई जाती है।

सहायक राज्य दवा नियंत्रक मनीष कपूर ने बताया कि सैंपल फेल होने वाले उद्योगों को नोटिस जारी कर दिए है, वहीं फेल हुए सैंपलों के बैच मार्केट से हटाने के निर्देश जारी कर दिए गए हैं।


If you like the post, Please share the link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *