उत्तराखंडखबर इंडियावीडियो

LT भर्ती परीक्षा में बड़े गड़बड़झाले की आशंका, अभ्यर्थियों ने किया बड़ा खुलासा

LT भर्ती परीक्षा में बड़े गड़बड़झाले की आशंका, अभ्यर्थियों ने किया बड़ा खुलासा

LT के 1214 पदों की बंपर भर्ती सवालों के घेरे में?

देहरादून। उत्तराखंड अधीनस्थ चयन आयोग द्वारा आयोजित एलटी भर्ती परीक्षा पर सवाल खड़े हो गए हैं अबे इस मामले को लेकर बड़े गड़बड़ी की आशंका जाहिर की है ऐसे में जीरो टॉलरेंस का दावा करने वाली सरकार इस मामले पर क्यों खामोश है पेश है एक रिपोर्ट…

बड़ी बातें
साल 2016 में अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ने जारी की थी विज्ञप्ति
1214 LT के पदों को लेकर जारी हुई थी विज्ञप्ति
21 जनवरी 2018 को हुआ था परीक्षा की गई थी आयोजित
प्रदेश के 7000 से ज्यादा बेरोजगारों ने किया था आवेदन
फिजिकल टीचर के 140 पदों को लेकर हुआ था चयन

प्रदेश में शिक्षकों की गुणवत्ता का रोना रो रही सरकार ने प्रदेश में 1214 पदों की बंपर भर्ती तो निकाली लेकिन यह भर्ती सवालों के घेरे में आ गई है इस भर्ती परीक्षा में गड़बड़ी का खुलासा तब हुआ जब कुछ अभ्यर्थियों ने करिए 30 चयनित अभ्यार्थियों की और मार्कशीट प्राप्त की…जिसमें कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। बेरोजगार युवक और याचिका कर्ता दुर्गेश डंडरियाल ने निम्नलिखित सवाल खड़ा किये हैं।

1- चयनित अभ्यर्थियों के मनोविज्ञान जैसे कठिन विषय मे 30/30 अर्थात शतप्रतिशत अंक आना।

2-आयोग द्वारा 5 प्रश्न यह कहकर संशोधित उत्तर कुंजिका में हटा दिए गए थे कि इनके प्रश्न एवं उत्तर सही नही हैं मगर सभी चयनित अभ्यर्थियों द्वारा इन 5 सवालों के उत्तर आयोग द्वारा जारी प्रथम उत्तर कुंजिका के अनुसार बिल्कुल सही दिए गए हैं ।

3- सभी चनयित अभ्यर्थियों द्वारा 6 सवालों के क्रम से उत्तर के लिए D ऑप्शन चुना गया जबकि इन 6 सवालों में से 2 सवालों का सही जवाब B था, तो इस प्रकार सवालों के जवाब एक क्रम से सही या गलत दिया जाना तभी सम्भव है जब इनके द्वारा नकल की गई हो

4-कई अभ्यर्थियों द्वारा अपना अनुक्रमांक तक सही नही लिखा गया है (इनके ओएमआर में zero, one, two, three तक सही से नही लिखा गया है), कुछ ऐसे अभ्यर्थी हैं जिन्होंने अपना विषय सही नही लिखा है या विषय मे स्पेलिंग मिस्टेक की है

5- कई ऐसे अभ्यर्थी हैं जिन्होंने पद कोड तक नही लिखा है , अभ्यर्थी one two three तक नही लिख पा रहा वह 70/80अंक अर्जित कर सकता है एवं यदि कोई अभ्यर्थी ओएमआर में अपनी या अपने विषय एवं पद का विवरण गलत देता है तो वह चयन का योग्य नही हो सकता मगर आयोग ने ऐसे लोगो को नजरअंदाज करके ऐसे अभ्यर्थियों को क्यो चयनित किया है।

6 -सभी चयनित अभ्यर्थियों द्वारा 17 सवालों के जवाब एक जैसे गलत दिए गए हैं..

वह इस मामले में उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग UKSSC के सचिव सन्तोष बडोनी ने स्पष्ट कह दिया है कि अभ्यर्थियों ने आयोग से इस मामले में कोई लिखित शिकायत नहीं की है। साथ ही आयोग ने मामले में कोर्ट का हवाला दिया है।

वहीं आयोग के अलावा भ्रष्टचार पर जीरो टॉलरेंस का दावा करने वाली भाजपा सरकार भी इस मामले को लेकर पाक साफ करने की कोशिश कर रही है भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी देवेंद्र भसीन का कहना है कि आयोग अपने आप में सक्षम है कि मामले की गंभीरता देखें अगर सरकार को लगेगा कि शासन स्तर पर जांच करानी है तो वह भी कराई जाएगी

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close