पंजाब

अब फेसबुक, वाट्सएप या स्काइप से दे सकेंगे गवाही, हाईकोर्ट ने दी इसकी मंजूरी

याची अपनी सुविधानुसार किसी भी वीडियो चैटिंग एप्लीकेशन से दे सकता है बयान

अब फेसबुक, वाट्सएप या स्काइप से दे सकेंगे गवाही, हाईकोर्ट ने दी इसकी मंजूरी

याची अपनी सुविधानुसार किसी भी वीडियो चैटिंग एप्लीकेशन से दे सकता है बयान

चंडीगढ़। माननीय न्यायालय ने न्यायिक प्रक्रिया में तकनीक के प्रयोग की दिशा में एक और कदम बढ़ा दिया है। कोर्ट के इस निर्णय के बाद अब फेसबुक, वाट्सएप और स्काइप के जरिये भी अदालतों में गवाही दी जा सकेगी। इसके पहले सन 2015 में हाईकोर्ट के जस्टिस के कन्नन की एकल पीठ ने वीडियो कॉन्फेंसिंग के माध्यम से बयान देने की मंजूरी दे दी थी।

अमेरिका में रह रहे सुच्चा सिंह को मिली इजाजत
पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने न्यायिक प्रक्रिया में तकनीक के प्रयोग की दिशा में एक और कदम बढ़ा दिया है। हाई कोर्ट ने फेसबुक, वाट्सएप या स्काइप जैसी वीडियो चैट एप्लीकेशन के माध्यम से अदालत में बयान देने की मंजूरी दे दी है। गौरतलब है कि वाट्सएप या स्काइप से गवाही देने की इजाजत अमेरिका में रह रहे जिन सुच्चा सिंह को मिली है। इससे पहले उनको ही वीडियो कॉन्फ्रेसिंग से भी बयान देने की इजाजत मिली थी। तब उन्हें जस्टिस कन्नन ने अमेरिका में स्थित भारतीय दूतावास या किसी अन्य सार्वजानिक कार्यालय से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोर्ट के सामने पेश होने को कहा था।

वीडियो चैटिंग एप्लीकेशन से गवाही दे पायेंगे सुच्चा सिंह
इस मामले में यह फैसला इस लिए भी आया क्योंकि अमेरिका और भारत के समय में लगभग 12 घंटे का अंतर होने के कारण सुच्चा सिंह किसी सार्वजानिक कार्यालय से भारतीय अदालत के समयानुसार बयान नहीं दे पा रहे थे। इसलिए सुच्चा सिंह ने वाट्सएप या स्काइप से बयान देने की इजाजत के लिए याचिका लगाई। इसे जस्टिस कुलदीप सिंह की पीठ ने स्वीकार कर लिया। जस्टिस कुलदीप सिंह ने कहा कि भारत में जब दिन होता है तो संयुक्त राज्य अमेरिका में रात होती है। ऐसे में याची को अमेरिका में रात के समय किसी सार्वजनिक कार्यस्थल से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की अनुमति मिलना कठिन है। इसलिए याची अपनी सुविधानुसार फेसबुक, वाट्सएप, स्काइप जैसी वीडियो चैटिंग एप्लीकेशन से बयान दे सकता है।

संपत्ति विवाद में देनी है सुच्चा सिंह को गवाही
अमेरिका में रह रहे सुच्चा सिंह का एक संपत्ति विवाद लुधियाना जिले के समराला कोर्ट में अजमेर सिंह सिंह के साथ चल रहा है। अजमेर सिंह पंजाब के पूर्व लोक निर्माण मंत्री शरणजीत सिंह ढिल्लों के भाई है। समराला कोर्ट में इस केस में सुच्चा सिंह को गवाही देनी थी। सुच्चा सिंह ने गवाही की समय सीमा बढ़ाने से की मांग की। समराला कोर्ट के इनकार करने के बाद वह हाई कोर्ट पहुंचे। इस पर कोर्ट ने 2015 में चार सप्ताह में अमेरिका से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माधयम से बयान देने के लिए कहा था, जो समय में अंतर के कारण नहीं हो सका तो सुच्चा सिंह ने फिर याचिका लगाई। अब सुच्चा सिंह को अतिरिक्त समय देते हुए हाई कोर्ट ने उन्हें ट्रायल कोर्ट के साथ बात कर बयान देने के आदेश दिए हैं।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close