खबर इंडियाझारखण्ड

सीबीएसई ने मोमो चैलेंज को माना बच्चों के लिए बड़ा खतरा

सीबीएसई ने स्कूलों को जारी किया सतर्कता बरतने का सर्कुलर

सीबीएसई ने मोमो चैलेंज को माना बच्चों के लिए बड़ा खतरा

सीबीएसई ने स्कूलों को जारी किया सतर्कता बरतने का सर्कुलर जारी

धनबाद, झारखंड।  ब्लू व्हेल गेम के बाद बच्चों के लिए यह एक और गेम बड़ा खतरा बनकर सामने आया है। जी हां ब्लू व्हेल गेम और अब मोमो चैलेंज गेम बच्चों के लिए जानलेवा साबित हो रहा है। राजस्थान व पश्चिम बंगाल में मोमो चैलेंज के चलते तीन की मौत हो चुकी है। मोमो चैलेंज एक ऐसा गेम है, जो हमारे दिमाग के साथ खेलता है, डर का माहौल बनाता है और फिर इंसान की जान ले लेता है। इसकी शुरुआत एक व्‍हाट्सएप रिक्वेस्ट से होती है। मोमो गेम चैलेंज को व्‍हाट्सएप पर ही शेयर किया जा रहा है। गेम में लगातार फोन पर अलग-अलग तरह के टास्क दिए जाते हैं। कई तरह के टास्क को पूरा करने के बाद आखिर में आत्महत्या का टास्क भी मिलता है।

इसके गंभीर परिणाम को देखते हुए पिछले दिनों ही इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी मंत्रालय ने एडवाइजरी जारी की थी। इसका हवाला देते हुए केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने भी इस गेम को बच्चों के लिए खतरा मानते हुए दो दिन पहले देशभर के सभी सीबीएसई स्कूलों को सर्कुलर जारी कर सतर्कता बरतने का निर्देश दिया है।  सीबीएसई ने स्कूल और स्कूल बसों में इंटरनेट और डिजिटल तकनीक के सुरक्षित उपयोग पर भी जोर दिया है। सर्कुलर में सीबीएसई ने मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी की एडवाइजरी का अनुपालन करने को कहा है। इसके तहत मोमो चैलेंज गेम क्या है, इसमें बच्चे किस तरह से फंसते हैं, इसकी पहचान कैसे की जाए, इससे बचने के उपाय क्या हो सकते हैं, आदि बातों की जानकारी शिक्षकों और अभिभावकों को देनी है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close