खबर इंडियादिल्ली

फिल्म प्रशिक्षण कार्यशाला का 04 दिन मुनीश भारद्वाज के नाम

मशहूर फिल्म मेकर मुनीश भारद्वाज ने सिखाए फिल्म मेकिंग के गुर

फिल्म प्रशिक्षण कार्यशाला का 04 दिन मुनीश भारद्वाज के नाम

मशहूर फिल्म मेकर मुनीश भारद्वाज ने सिखाए फिल्म मेकिंग के गुर

देहरादून। भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान, पुणे और उत्तराखण्ड फिल्म विकास परिषद उत्तराखण्ड के तत्वावधान में आयोजित पांच दिवसीय फिल्म प्रशिक्षण कार्यशाला का 04 दिन मशहूर फिल्म मेकर मुनीश भारद्वाज के नाम रहा। प्रोसेस ऑफ मेकिंग अ फिल्म पर क्लास लेने पहुँचे फिल्म मेकर मुनीश भारद्वाज के साथ एफटीआईआई के प्रशिक्षक पंकज सक्सेना ने भी फिल्म मेकिंग से जुड़ी बारीकिया प्रतिभागियों को बताई।

मशहूर फिल्म मेकर मुनीश भारद्वाज ने बताया कि प्रफेशनल फिल्म-मेकिंग थोड़ा बड़ा काम है। इसमें मेहनत ज्यादा है। हर बात की बारिकियों का ध्यान रखना पड़ता है। उन्होंने प्रतिभागियों से सवाल करते हुए कहा कि फिल्म बनाने की सोचते वक्त ही आपके जहन में यह बात आएगी कि मुझे तो फिल्म बनानी नहीं आती, मेरे पास कोई ट्रेनिंग भी नहीं है। फिर मैं कैसे फिल्म बना सकता हूं। उन्होंने कहा कि फिल्म बनाना एक आर्ट है। उसकी ट्रेनिंग अगर आपके पास है तो आपका तकनीकी पक्ष बहुत मजबूत हो सकता है। लेकिन कहानी सुनाना, मजेदार ढंग से सुनाना, यह आपको कोई नहीं सिखा सकता। फिल्म के लिए आपको कहानी, स्क्रिप्ट, शूटिंग, डायरेक्शन, ऐक्टिंग, एडिटिंग और म्यूजिक की जरूरत होगी। अब आप देखिए कि इनमें से कितने काम आप खुद कर सकते हैं। बाकी सबके लिए आपको साथियों की जरूरत होगी। फिल्म मेंकिग के सीन के सिक्वंस के बारे में उन्होंने प्रतिभागियों को विस्तार से बताया। साथ ही प्रतिभागियों के तमाम सवालों के जवाब भी दिए।

मुनीश भारद्वाज की फिल्म “मोह माया मनी” भी देखी
इस मौके पर मुनीश भारद्वाज की फिल्म “मोह माया मनी” का भी प्रदर्शन किया गया। मोह माया मनी में रणवीर शौरी और नेहा धूपिया हैं। यह फिल्म एक क्राइम थ्रिलर है जिसमें रणवीर शौरी एक प्रॉपर्टी ब्रोकर हैं और उनकी पत्नी के किरदार में हैं नेहा धूपिया जो फिल्म में एक मीडिया एक्सिक्यूटिव बनी हैं।

फिल्म में रणवीर जल्द से जल्द बहुत पैसा कमाना चाहते हैं जिसकी वजह से वह कमाई का गलत रास्ता चुनते हैं और उनकी महत्वाकांक्षा उन्हें ले डूबती है।

आखिर तक बांधे रखती है फिल्म
फिल्म में कहानी कहने का तरीका आपको आखिर तक बांधे रखता है। फिल्म में सस्पेंस बना रहता है और आप बिना ऊबे फिल्म की कहानी के साथ आगे बढ़ते जाते हैं।

फिल्म के कुछ हिस्से में दो अलग-अलग नजरिए से कहानी कही जाती है। नेहा और रणवीर दोनों ने काम अच्छा किया है। बतौर एक्टर आपको उनसे शिकायत नहीं होगी। निर्देशक मुनीश भारद्वाज ने एक शानदार फिल्म बनाई है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close