खबर इंडियादिल्ली

एक्सक्लूसिव :- किशोर का बलूनी प्रेम, दिल्ली में पकी सियासी खिचड़ी, उत्तराखंड तक पहुंची खुशबू

उत्तराखंड कांग्रेस के 1 दर्जन नेताओं ने किशोर के नेतृत्व में बलूनी से की मुलाकात

एक्सक्लूसिव :- किशोर का बलूनी प्रेम, दिल्ली में पकी सियासी खिचड़ी, उत्तराखंड तक पहुंची खुशबू

उत्तराखंड कांग्रेस के 1 दर्जन नेताओं ने किशोर के नेतृत्व में बलूनी से की मुलाकात

दिल्ली। दिल्ली में पक्की सियासी खिचड़ी की महक उत्तराखंड तक पहुंच गई है। दिल्ली में भाजपा- कांग्रेस के दो दिग्गज नेता क्या मिले की चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया। सोशल मीडिया पर इस मुलाकात के फोटो सामने आते ही अलग-अलग तरह के कमैंट्स दिखाई देने लगे। राजनीतिक गलियारों में भी इस मुलाकात के कहीं निहार्थः निकाले जा रहे हैं। अब बोलने वालों को कौन रोक सकता है। उत्तराखंड की राजनीति को करीब से जानने वाले लोग कहते हैं कि उत्तराखण्ड की राजनीति का इतिहास देखते हुवे, उत्तराखण्ड में कभी भी कुछ हो सकता है। बड़ी बात नही की किशोर उपाध्याय बीजेपी के टिकट पर लोकसभा चुनाव में किस्मत आजमाते नजर आएं। सवाल बहुत हैं इन सभी सवालों के जवाब भविष्य के गर्त में छिपे हैं। फिलहाल ये मुलाकात क्यों हुई इसके बारे में विस्तार से बताया कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता संजय भट्ट ने।
कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता संजय भट्ट ने कहा कि उत्तराखण्ड कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय और उत्तराखण्ड से बीजेपी के राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी की मुलाक़ात 20 गुरुद्वारा रकाबगंज रोड़ दिल्ली में हुई। किशोर उपाध्याय ने उत्तराखण्ड में वन अधिकार लागू करने के लिए इससे पहले अजय भट्ट, हरीश रावत, प्रीतम सिंह आदि से भी मुलाकात की है। यही नहीं प्रधानमंत्री मोदी के उत्तराखण्ड आगमन पर उनको भी वनाधिकार सम्बन्धी ज्ञापन प्रेषित किया था।
बीजेपी राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने किशोर उपाध्याय व शिष्टमंडल से ज्ञापन के 6 बिंदुओं पर कदम उठाने की बात की। वहीं कहा कि अगर ये बजट अंतरिम बजट न होता तो इस बार केंद्र सरकार उत्तराखण्ड राज्य को ग्रीन बोनस दे देती। बलूनी ने कहा कि मुझे उम्मीद है कि मई-जून 2019 तक इन मांगों पर कुछ न कुछ निर्णय अवश्य लिया जाएगा।
Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close