उत्तराखंडखबर इंडिया

अमेरिकी राजदूत ने थपथपाई CMO डॉ प्रेम लाल की पीठ, हरिद्वार में स्वास्थ्य सेवाओं को सराहा

अमेरिकी सहयोग से चलने वाले वृद्धि योजना का लिया फीडबैक

अमेरिकी राजदूत ने थपथपाई CMO डॉ प्रेम लाल की पीठ, हरिद्वार में स्वास्थ्य सेवाओं को सराहा

अमेरिकी सहयोग से चलने वाले वृद्धि योजना का लिया फीडबैक

हरिद्वार। अमेरिकी राजदूत केनेथ आइ जस्टर अपने हरिद्वार प्रवास के दूसरे दिन आज सुबह महिला अस्पताल पहुंचे। सीएमओ डा प्रेमलाल और चैनराय महिला अस्पताल की सीएमएस व स्टाफ ने उनका गर्मजोशी से माल्यार्पण कर अभिनंदन किया। अमेरिकी सहयोग से चलने वाले वृद्धि योजना का फीडबैक लेते हुए अस्पताल और जिले में स्वास्थ्य सेवाओं में आधुनिक तकनीकों के इस्तेमाल की मुक्त कंठ से प्रशंसा कर उत्साह बढ़ाया।
अमेरिकी राजदूत केनेथ आइ जस्टर ने महिला अस्पताल में स्वास्थ्य विभाग अमेरिकी सहयोग से चल रहे वृद्धि प्रोजेक्ट के तहत सुरक्षित व संस्थागत प्रसव, मातृत्व शिशु मृत्यु दर में सुधार के लिए किया जा रहे प्रयास की जानकारी की। कहा सुरक्षित मातृत्व की गारंटी देना महत्वपूर्ण है। बोले योजनाओं की पहुंच आम लोगों तक पूरी पारदर्शिता के साथ पहुंचाई जानी चाहिए। प्रसव के दौरान और प्रसवोत्तर इलाज की सुविधाओं को समय पर दिलाना सभी की जिम्मेदारी है। इसको पूरे समर्पण भाव वे निभाना चाहिए। अमेरिकी राजदूत ने सिक न्यू बार्न केयर यूनिट में भर्ती नवजात शिशुओं के इलाज के बारे में जानकारी ली। वरिष्ठ बालरोग विशेषज्ञ व यूनिट के इंचार्ज डा संदीप निगम ने उन्हें बताया कि नवजात शिशुओं को इस यूनिट में हर दिन चौबीस घंटे इलाज मिल रहा है। जिससे शिशु मृत्यु दर में सुधार आ रहा है। इस पर उन्होने सुविधाओं को और समृद्ध करने की सलाह दी। अमेरिकी सहयोग से चल रहे वृद्धि योजना के बारे में स्टेट हेड डा नितिन ने बताया महिला अस्पताल का लक्ष्य प्रमाणपत्र भी मिला है। लेबर रूम में अत्याधुनिक सुविधाएं प्रसूताओं को मिल रही है। एसएनसीयू भी एडवांस सुविधायुक्त है।

सीएमओ डा प्रेमलाल ने दी योजना की जानकारी

सीएमओ डा प्रेमलाल ने बताया कि अमेरिका के सहयोग से वृद्धि योजना जिले में 2015 से संचालित हो रही है। लक्ष्य योजना के तहत चैनराय महिला अस्पताल जिले का एकमात्र सेंटर है। जिसे प्रमाण पत्र इस साल फरवरी में मिला है। कायाकल्य योजना का भी पुरस्कार इस अस्पताल को मिला है। हर सोमवार को सम्मान पूर्वक प्रसूताओं की जांच, प्रसव के दौरान और प्रसवोत्तर स्वास्थ्य सेवाएं देने के साथ उन्हें जागरुक भी किया जाता है। आरसीएच पोर्टल के माध्यम से योजनाओं की पूरी जानकारी आनलाइन उपलब्ध है। एसएमएस से भी जानकारी मुहैया कराई जा रही है। इस पर राजदूत ने कार्य शैली की तारीफ की।
Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close