उत्तर प्रदेशखबर इंडिया

गजब का टैलेंट -: इन दोनों बेटियों के जवाब गूगल से भी तेज

मेमोरी मशीन के नाम से मशहूर हैं ये दो बहनें

गजब का टैलेंट -:  इन दोनों बेटियों के जवाब गूगल से भी तेज

मेमोरी मशीन के नाम से मशहूर हैं ये दो बहनें

इन दोनों बहनों के पास है हर सवाल का जवाब इनके पास

सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने भी माना इनकी प्रतिभा का लोहा

लखनऊ। प्रतिभा उम्र की मोहताज नहीं होती है। छोटी सी उम्र के बच्चे को देखकर अगर कोई कह दे आपका बच्चा तो जीनियस है। यह लाइन सुनकर किसी भी मां बाप का सीना गर्व से फूल जाता है। और हो भी क्यों न, कितने बच्चे ऐसे होते हैं जो 5 साल की उम्र में फर्राटेदार तरीके से किताबें पढ़ने लग जायें या देश दुनिया में होने वाली घटनाओं को ब्यौरा याद रखने लग जाएं, या फिर अंग्रेजी के लंबे लंबे शब्दों की स्पेलिंग याद रखने लग जाएं। विलक्षण प्रतिभा के धनी बच्चे अपने आप में अनोखे होते हैं। हर बच्चा अलग है लेकिन इनमें कुछ बातें समान भी होती है। आज बात ऐसी ही प्रतिभा की धनी दो बहनों की। जिन्हें हिन्दुस्तान के लोग मेमारी मशीन के नाम से जानते हैं। शिक्षक माता-पिता की यह जीनियस बेटियां देश के साथ-साथ विदेश में भी अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा चुकी हैं।

नामी हस्तियां कर चुकी हैं बाल प्रतिभाओं की हौसला अफजाई
हनी और हंसी दोनों बहने छोटी सी उम्र में देशभर में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश दे रही हैं। हाल ही में पीलीभीत निवासी दोनों बहनें पिता के साथ राजधानी लखनऊ पहुंचीं। दोनों बहनें 2009 से प्रशासनिक अधिकारियों के समक्ष सामान्य ज्ञान प्रदर्शन कर चुकी हैं। उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत और पीएम के भाई सोमा भाई मोदी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, समेत तमाम हस्तियां बाल प्रतिभाओं की हौसलाअफजाई कर चुके हैं। नेपाली एफएम शो में भी जीनियस बहनों ने टैलेंट दिखाया था। साथ ही नेपाल में बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ अभियान के तहत जागरूकता रैली निकाली थी।

हनी और हंसी के पास है हर सवाल का है जवाब
11 साल की हनी और 8 साल की हंसी के जीके डिस्कनरी में देश-विदेश के करीब हजारों सवालों का जवाब है। दुनिया के किसी भी क्षेत्र कर क्षेत्रफल से लेकर, वहां के राष्ट्रध्यक्ष देश-विदेश के समसमायिक से लेकर इतिहास भूगोल का गहरा अध्ययन दोनों के भीतर है। नौगवां संतोष में रहने वाली दोनों बहनें मौजूद समय में बीसलपुर में रहती हैं। पिता दिग्विजय सिंह ने बताया कि घर पर बच्चों को ट्यूशन पढ़ाते थे। पहले बड़ी बेटी हनी ने उस दौरान पढ़ाई जाने वाली चीजों को ग्रहण करना शुरू कर दिया। फिर  हंसी ने भी अनुसरण किया।नेपाली एफएम शो में भी जीनियस बहनों ने टैलेंट दिखाया था। साथ ही नेपाल में बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ अभियान के तहत जागरूकता रैली निकाली थी।

इसमें है दोनों बहनों को महारत हासिल

तीन मिनट में 250 प्रदेश-देशों की राजधानी सुनाती हैं।
पांच मिनट में 250 प्रदेश- देशों का क्षेत्रफल सुना लेती हैं।
इंग्लिश व हिंदी की अंताक्षरी में माहिर।
शिक्षा संबंधित विभिन्न विषयों के जटिलतम टॉपिक को धारा प्रवाह सुनाने की कला।

Tags
Show More

Related Articles

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close