उत्तराखंडखबर इंडिया

सावधान: शादी में अगर इस चीज का किया इस्तेमाल तो पड़ेगा भारी

बिना बुलाए पहुंचेगा प्रशासन, देना पड़ेगा आपको भारी जुर्माना

सावधान: शादी में अगर इस चीज का किया इस्तेमाल तो पड़ेगा भारी

बिना बुलाए पहुंचेगा प्रशासन, देना पड़ेगा आपको भारी जुर्माना

हरिद्वार,(रूड़की)। घर में शादी है तो जरा संभलकर आपकी जरा सी लापरवाही आप पर पड़ सकती है भारी। आप शादी में हर छोटी-बड़ी चीज का ध्यान रखते हैं। मसलन अच्छा होटल या फिर बेडिंग प्वाइंट, अच्छा कैंटरिंग वाला, एक से बढकर एक पकवान, शहर का नामचीन बैंड, मंहगे कपड़े, और भी बहुत कुछ। पर अक्सर एक तरफ अक्सर आप का ध्यान नहीं जाता। या जाता भी है तो थोड़ी सी मेहनत से बचने के लिए आप वहां यूज एंड थ्रो का सहारा लेते हैं। वह है खाना कौन सी प्लेटों पर खाया जा रहा है? जी हां वर्तन धुलने से बचने के लिए अधिकत्तर लोग शादियों में डिस्पोजल का इस्तेमाल करते हैं। लोग इसे आसान समझते हैं यूज एंड थ्रो। लेकिन जनाब अब ऐसा नहीं होगा? किया तो आपको बहुत भारी पड़ेगा।

यदि आपके लड़के या लड़की की शादी अप्रैल में है तो अब आप रूड़की में शादी में डिस्पोजल का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे। अब शादी ब्याह में आपको डिस्पोजल की जगह पत्ते, स्टील या फिर कागज की बनी प्लेटों में ही मेहमानों को खाना खिलाना होगा। डिस्पोजल के गिलास पर पानी पिलाने के बजाय कागज या स्टील के गिलास का प्रयोग करना होगा।

नहीं माना फैसला तो देना होगा जुर्माना

रुड़की को साफ सुथरा रखने के लिए प्रशासन ने सख्त निर्णय लिया है। अगर इस फैसले के खिलाफ कोई कार्य हुआ तो पांच हजार रुपए का जुर्माना देना होगा। प्रशासन ने शहर में डिस्पोजल के इस्तेमाल को पूरी तरह से बैन करने का फैसला किया है। रूड़की जिला प्रशासन की ओर से एक अप्रैल से पूरे जिले में डिस्पोजल थर्माकोल के खिलाफ अभियान चलेगा। इसके लिए नगर निगम प्रशासन ने डिस्पोजल थर्माकोल पत्तल व्यापारियों के साथ बैठक की। इस दौरान व्यापारियों ने भी नगर निगम प्रशासन के सामने अपनी बात रखी है।

सहायक नगर अधिकारी चंद्रकांत भट्ट ने बताया कि व्यापारियों का कहना था कि उनके यहां डिस्पोजल और थर्माकोल का काफी स्टॉक है। इसलिए उन्हें एक माह की मोहलत दी जाए। सहायक नगर अधिकारी चंद्रकांत भट्ट ने बताया कि होटल एसोसिएशन, धर्मशाला, बारातघर, बेडिंग प्वाइंट, मंदिर समिति के कर्मचारियों को भी बैठक करने के लिए बुलाया जाएगा, उन्हें भी थर्माकोल, डिस्पोजल के आइटमों का प्रयोग न करने को कहा जाएगा। बताया कि एक अप्रैल के बाद जिस भी बारात घर, होटल, वेडिंग प्वाइंट में डिस्पोजल थर्माकोल की सामग्री का प्रयोग होगा उन पर 5 हजार रुपये प्रतिदिन के हिसाब से जुर्माना लगाया जाएगा। बताया कि नगर निगम की ओर से इस बारे में प्रचार प्रसार भी किया जाएगा। जिलाधिकारी की ओर से थानेवार टीम बनाई गई है, जिसमें पुलिस, राजस्व विभाग और नगर निगम के कर्मचारी शामिल होंगे। गौरतलब है कि मोदी सरकार ने साल 2014 में स्वच्छ भारत मिशन की शुरुआत की थी, जिसके बाद पूरे उत्तराखंड में व्यापक स्तर पर स्वच्छता अभियान चलाया जा रहा है। राज्य का हर शहर पहले के मुकाबले ज्यादा साफ सुथरा नजर आ रहा है।

Show More

Related Articles

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close