उत्तराखंडखबर इंडिया

हरक की पहल का उत्तराखंड के इतने लोगों को मिलेगा फायदा

फाइनल आदेश हुए जारी, धन व समय की होगी बचत

हरक की पहल का उत्तराखंड के इतने लोगों को मिलेगा फायदा

फाइनल आदेश हुए जारी, धन व समय की होगी बचत

देहरादून। वन मंत्री हरक सिंह रावत की पहल का सीधा लाभ बड़ी संख्या में राज्य ही नहीं उत्तराखंड आने वाले लोगों को भी मिलेगा। जी हां सबकुछ तय समय के मुताबिक हुआ तो जल्द ही आपको गढ़वाल-कुमाऊं को सीधे आपस में जोड़ने वाली कंडी रोड (रामनगर-कालागढ़-कोटद्वार-लालढांग) के हिस्से चिल्लरखाल (कोटद्वार)-लालढांग मार्ग पर वाहन फर्राटा भरते हुए नजर आयेंगे। सरकार ने वन भूमि लोनिवि को गैर वानिकी कार्यों के लिए अनुमति दे दी है। अब 11 किमी लंबे इस मार्ग के नौ किमी में डामरीकरण हो सकेगा। इस संबंध में फाइनल आदेश जारी कर दिए गए हैं। वन मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने बताया कि इस मार्ग के शेष दो किमी हिस्से के निर्माण में वन अधिनियम बाधक नहीं बनेगा। हालांकि, इसके लिए भी लोनिवि को भूमि सौंपने के आदेश जल्द जारी हो जाएंगे।
कोटद्वार-लालढांग मार्ग पर जल्द फर्राटा भरते नजर आएंगे वाहन
वन मंत्री हरक सिंह रावत ने कहा कि कंडी रोड के चिल्लरखाल (कोटद्वार)-लालढांग मार्ग के डामरीकरण को लेकर सरकार ने अत्यधिक तेजी से कार्य किया है। डामरीकरण के लिए हाल में लालढांग और चिल्लरखाल की ओर तरफ से वन भूमि लोनिवि को सौंपने के सैद्धांतिक आदेश किए। अब इसके फाइनल आदेश भी कर दिए गए हैं। इस मार्ग को वाहनों से लिए जाने वाले मार्ग संधारण शुल्क से भी मुक्त कर दिया गया है। वन मंत्री हरक सिंह रावत ने कहा कि इस मार्ग का डामरीकरण होने और पुलों के बन जाने के बाद देहरादून, हरिद्वार से गढ़वाल के प्रवेश द्वार कोटद्वार के लिए आवाजाही सुगम हो जाएगी। साथ ही देहरादून व हरिद्वार से कोटद्वार के बीच दूरी 40 किमी कम हो जाएगी। इससे लोगों के धन एवं समय की बचत होगी। वन मंत्री हरक सिंह रावत ने कहा कि कोटद्वार आने-जाने के लिए उत्तर प्रदेश से गुजरने के झंझट से मुक्ति मिल जाएगी। उन्होंने कहा कि यह मार्ग कोटद्वार क्षेत्र के विकास में अहम भूमिका निभाएगा।
Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close