उत्तराखंडखबर इंडिया

प्रीतम सिंह के ड्रीम पर कहीं फिर न जाये पानी?

शूरवीर सिंह सजवाण की घर वापसी पर बवाल?

प्रीतम सिंह के ड्रीम पर कहीं फिर न जाये पानी?

शूरवीर सिंह सजवाण की घर वापसी पर बवाल?

एक मयान में कैसे रहेंगी दो तलवारें?

देहरादून। उत्तराखंड में कांग्रेस के नए अध्यक्ष प्रीतम सिंह पार्टी को मजबूत करने के लिए हर मुमकिन कोशिशों में लगे हैं। प्रीतम जानते हैं आगामी नगर निगम, पंचायत और लोकसभा चुनाव से पहले पार्टी में एकजुटता और मजबूती देखने को नहीं मिली तो नुकसान उठाना पड़ सकता है। यही वजह है कि अध्यक्ष की कुर्सी संभालने के बाद से ही प्रीतम हर कमजोर कड़ी को मजबूत करने में जुटे हुए हैं। कांग्रेस आलाकमान ने भी पार्टी में सबको साथ लेकर चलने के लिए प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह को फ्रीहैंड दे रखा है।

प्रीतम का मास्टर स्ट्रोक
आलाकमान के फ्रीहैंड का पूरा फायदा प्रीतम सिंह उठाते हुए दिखाई दे रहे हैं। इसी का नतीजा है कि असंतुष्टों का फायदा भाजपा उठाये उससे पहले प्रीतम सिंह उन्हें अपने पाले में खींचने में लगे हुए हैं। इसमें उन्हें नेता प्रतिप्रक्ष इंदिरा हृदियेश का भी भरपूर साथ मिल रहा है। पहले नैनीताल से हेम आर्य, फिर टिहरी से राजेश्वर पैन्यूली और अब देवप्रयाग से पिछली बार कांग्रेस से बगावत कर चुनाव लड़ चुके पूर्वमंत्री शूरवीर सजवाण की घर वापसी की तैयारियों हैं।

सजवाण की घर वापसी के विरोध में नैथानी?
प्रीतम सिंह और इंदिरा की टीम शूरवीर सजवाण की घर वापसी की तैयारियों में लगी हुई है। चर्चाए गर्म हैं कि उनके साथ बड़ी संख्या में उनके समर्थक भी कांग्रेस ज्वाइन करेंगे। वहीं इसी बीच इस वापसी पर ब्रेक लगता हुआ दिखाई दे रहा है। कांग्रेस सूत्रों से यह खबर छनकर आ रही है कि सजवाण की घर वापसी पर ब्रेक भी लग सकता है, इसकी वजह मंत्री प्रसाद नैथानी को बताया जा रहा

है। सूत्रों का कहना है कि शूरवीर सजवाण की ज्वाइनिंग का मामला कांग्रेस आलाकमान तक पहुंच गया है। कांग्रेस नेता और पिछली सरकार में कैबिनेट मंत्री मंत्री प्रसाद नैथानी ने उनकी घर वापसी को लेकर सवाल खड़े किए हैं। हालांकि अभी तक कांग्रेस का कोई भी नेता इस विषय पर खुलकर बोलने को तैयार नहीं है। फिलहाल संगठन को नई धार देने की कोशिश में जुटे प्रीतम सिंह पार्टी से छिटक चुके पुराने कांग्रेसियों की घर वापसी की जुगत में लगे हुए है।

हरीश-किशोर खेमे को चित करने की चाल
सियासी फिजाओं में यह चर्चाएं भी आम हैं कि जिस तरह से भाजपा के असंतुष्टों के साथ ही कांग्रेस के असंतुष्टों की भी घर वापसी कराई जा रही है उससे कहीं न कहीं हरीश और किशोर खेमों को नुकसान उठाना पड़ेगा। इसके पीछे यह वजह बताई जा रही है कि जिन नेताओं ने हरीश रावत और किशोर उपाध्याय के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद की पहले उनकी घर वापसी कराई जा रही है ताकि इन दोनों खेमो को चित किया जा सके।

प्रीतम की छोटी मगर दमदार टीम
इसके साथ ही अपनी टीम पर भी प्रीतम ने खास होमवर्क किया है। सूत्रों का कहना है कि इस बार छोटी और दमदार टीम होगी। पिछली कमेटी जहां तकरीबन 400 कार्यकर्ताओं को समेटे हुए है, वहीं नई कमेटी में इसे 60 से 70 सदस्य तक रखा जा सकता है। एक वर्ष से ज्यादा वक्त से पिछली कमेटी से ही काम चला रहे प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह नई कमेटी को अपने हिसाब से मैदान में उतारने की कार्ययोजना को अंतिम रूप देने में जुटे हैं। कांग्रेसी सूत्रों के मुताबिक प्रदेश प्रभारी अनुग्रह नारायण 24 जुलाई को पीसीसी, एआइसीसी सदस्यों के साथ ही जिला, शहर व फ्रंटल संगठनों के अध्यक्षों के साथ बैठक करेंगे। इस फीडबैक के बाद उत्तराखंड कांग्रेस कमेटी के गठन की घोषणा की जा सकती है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close