उत्तराखंडखबर इंडिया

बाहरी को टिकट दिया तो खैर नहीं सरकार

नगर निकाय के टिकटों को लेकर शुरू हुई मारामारी

बाहरी को टिकट दिया तो खैर नहीं सरकार

नगर निकाय के टिकटों को लेकर शुरू हुई मारामारी

अरूण पांडेय
   अरूण पांडेय

देहरादून। नगर निकाय चुनाव की सरगर्मिया अपने ऊफान पर हैं। दावेदारों ने अभी से जोर आजमाईश शुरू कर दी है। कई दावेदार अपने क्षेत्रों में सक्रिय हैं तो कई को अभी नगर निकाय चुनाव की तारीखों के ऐलान का इंतजार है, क्योंकि कई को लगता है कि चुनाव पीछे खिसक सकते हैं इसलिए तारीख के ऐलान के बाद ही क्षेत्र में ताकत झोंकी जाए।

नगर निकाय चुनाव को लेकर भले ही अभी तारीखों का ऐलान न हुआ हो, लेकिन टिकट को लेकर अभी से मारामारी शुरू हो गई है। भाजपा हो या कांग्रेस टिकट की चाह रखने वालों ने अपने-अपने आकाओं के चक्कर लगाने शुरू कर दिए है। पार्टी के मुख्यालयों और महानगर कार्यालयों पर भी टिकट की चाह रखने वाले देखे जा सकते हैं। खास तौर से जो पहली बार चुनाव लड़ने का ख्याब पाले हुए हैं उन्होनें तो अपना पूरा प्रोफाईल तैयार किया हुआ है। वहीं जो पहले चुनाव लड़ चुके हैं उन्हें भरोसा है कि पार्टी उन्हें इस बार भी मौका जरूर देगी।

टिकट को लेकर हंगामा

एक ओर जहां परिसीमन और आरक्षण की स्थिति अभी साफ नहीं हो पाई है। ऐसे में मेयर से लेकर पार्षद के प्रत्याशियों के बीच टिकट को लेकर हंगामा होने लगा है। रविवार को भाजपा धर्मपुर मंडल के वार्ड 48 की बैठक क्षेत्र के पंचायती मंदिर में रखी गई। इस बैठक में महानगर से पदाधिकारियों के शामिल होने की सूचना थी। ऐसे में बड़ी संख्या में राजीवनगर, अपर राजीवनगर, बद्रीश कॉलोनी, अपर बद्रीश कॉलोनी, भगत सिंह कॉलोनी आदि क्षेत्र में लोग बैठक में शामिल हुए। बैठक शुरू भी नहीं हुई कि लोगों ने पार्षद के टिकट को लेकर हंगामा खड़ा कर दिया। मौके पर मौजूद कार्यकर्ताओं ने कहा कि वार्ड में शामिल हुए भगतसिंह कॉलोनी की बजाए राजीवनगर या फिर बद्रीश कॉलोनी से पार्षद का टिकट दिया जाए। काफी देर तक हंगामा होने के बाद महानगर से बैठक लेने जा रहे पदाधिकारी रास्ते से लौट आए। क्षेत्र के संजय उनियाल, राजेश्वरी बड़ोनी, राकेश गुसाईं, शैला बड़ोनी, जितेंद्र नेगी, बलदेव सिंह, जगत सिंह, भरत सिंह, जितेंद्र सिंह राणा आदि ने कहा कि बाहरी व्यक्ति को टिकट का पुरजोर विरोध किया जाएगा।

वहीं भाजपा महानगर अध्यक्ष विनय गोयल ने बताया कि इन दिनों वार्ड स्तर पर मीटिंग चल रही हैं। कार्यकर्ताओं को अपनी बात रखने का अधिकार है। उनकी बातें सुनी भी जा रही हैं। अभी आरक्षण और चुनाव का शेड्यूल आना बाकी है। ऐसे में हंगामे जैसी स्थिति नहीं होनी चाहिए।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close