उत्तराखंडखबर इंडिया

जम्मू कश्मीर के माइन ब्लास्ट में शहीद हुए उत्तराखंड के दो लाल, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल

रजौरी में अभियान के दौरान माइन ब्लास्ट की चपेट में आने से मौके पर ही शहीद

जम्मू कश्मीर के माइन ब्लास्ट में शहीद हुए उत्तराखंड के दो लाल, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल

जम्मू कश्मीर । उत्तराखंड के दो लालों के शहीद होने की खबर आ रही है। जम्मू कश्मीर के राजौरी में माइन ब्लास्ट की चपेट में आने से उत्तराखंड के दो जवान सुरजीत सिंह राणा और 8 कुमाऊं रेडीमेंट के जवान लांस नायक सूरज सिंह शहीद हो गए। सूरज, पुत्र नारायण सिंह अल्मोड़ा के जिगोनी तहसील के रहने वाले थे। शहीद सुरजीत, पुत्र स्वर्गीय प्रेम सिंह राणा चमोली के स्यूंण गांव के रहने वाले थे। जो 10वी गढ़वाल में सेवारत थे। रजौरी में अभियान के दौरान माइन ब्लास्ट की चपेट में आने से मौके पर ही शहीद हो गए।
जब रात को परिवार को यह सूचना मिली तब से शहीद का परिवार सदमे में है। एक साल पहले सुरजीत की पत्नी का भी देहांत हो चुका था। उनके कोई बच्चे नही हैं। शहीद सुरजीत की चार बहने हैं, सुरजीत उनमें सबसे छोटे थे। सुरजीत का बड़ा भाई महाबीर सिंह घर पर ही रहते हैं। सुरजीत के पिता का देहांत लगभग 22 साल पहले हो गया था, किसी तरह अपनी पढ़ाई पूरी कर सेना में भर्ती हो गया, अभी घर सम्भला ही था कि बहादुर भाई शहीद हो गया। सुरजीत सिंह राणा कुछ दिन पहले ही छुट्टी पूरी कर ड्यूटी पर लौटे थे। शनिवार की शाम सैन्य अधिकारी की ओर से परिजनों को फोन पर सुरजीत सिंह राणा के शहीद होने की जानकारी दी। इसके बाद से परिजनों का रो रोकर बुरा हाल है।
बता दें कि खौड़ थाने के अंतर्गत कलीठ फील्ड फायरिंग रेंज पर पलांवाला के चपरेयाल क्षेत्र में शनिवार को अभ्यास के दौरान माइन ब्लास्ट हुआ था। इसकी चपेट में आने से सेना के दो जवान शहीद हो गए थे।

उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रेम चंद अग्रवाल ने जम्मू कश्मीर के राजौरी में माइन ब्लास्ट की चपेट में आने से उत्तराखंड के दो जवान सुरजीत सिंह राणा और लांस नायक सूरज सिंह की शहादत पर गहरा शोक व्यक्त किया है। श्री अग्रवाल ने शहीद जवानो को श्रद्घांजलि अर्पित करते हुए उनके परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है।

बता दें कि 8 कुमाऊं रेडीमेंट में सेवारत शहीद सूरज सिंह, पुत्र नारायण सिंह अल्मोड़ा के जिगोनी तहसील के रहने वाले थे। 10वी गढ़वाल में सेवारत शहीद सुरजीत सिंह राणा , पुत्र स्वर्गीय प्रेम सिंह राणा चमोली के स्यूंण गांव के रहने वाले थे। दोनों ही जवान जम्मू कश्मीर के रजौरी में अभियान के दौरान माइन ब्लास्ट की चपेट में आने से मौके पर ही शहीद हो गए।

विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि उत्तराखंड के वीर शहीदों ने देश की अखंडता एवं सुरक्षा के लिए अपने प्राण न्योछावर किए।इसके लिए समूचा राष्ट्र उनके प्रति कृतज्ञ रहेगा। शहीदों के इस बलिदान को प्रदेश और देश के लोग हमेशा याद रखेंगे।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close