उत्तराखंडखबर इंडिया

उत्तराखंड:- भाजपा के इन नेताओं का हुआ इंतजार खत्म मिली जिम्मेदारी!

भाजपा ने संगठन से जुड़े 2268 कार्यकर्ताओं को दिया खास तोहफा

उत्तराखंड:- भाजपा के इन नेताओं का हुआ इंतजार खत्म मिली जिम्मेदारी!

भाजपा ने संगठन से जुड़े 2268 कार्यकर्ताओं को दिया खास तोहफा!

देहरादून। उत्तराखंड में भाजपा ने चुनावों में शानदार कार्य करने वाले कार्यकर्ताओं को ईनाम के तौर पर नई जिम्मेदारी से नवाजा है। जी हां भाजपा संगठन से जुड़े 2268 कार्यकर्ताओं को यह खास तोहफा दिया गया है। गौरतलब है कि बीते माह सरकार ने 14 नेताओं को विभिन्न आयोगों, निगमों और प्राधिकरणों में अध्यक्ष, उपाध्यक्ष के पदों पर तैनात किया। इनमें तीन को कैबिनेट और शेष को राज्यमंत्री का दर्जा प्रदान किया गया था। अब इस कड़ी में जिला व ब्लॉक स्तर पर 20 सूत्रीय कार्यक्रम क्रियान्वयन समितियां गठित कर इनमें उपाध्यक्ष व सदस्यों की नियुक्त की जा रही है। सूत्रों की माने तो इसी के तहत 2268 कार्यकर्ताओं को जिला व ब्लॉक स्तर पर गठित 20 सूत्रीय क्रियान्वयन समिति में उपाध्यक्ष और सदस्यों के रूप में जिम्मेदारी देने पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मुहर लगा दी। मुख्यमंत्री कार्यालय के सूत्रों के मुताबिक जिला व ब्लॉक स्तरीय समितियों में नियुक्तियों को लेकर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपना अनुमोदन दे दिया है और जल्द ही इस संबंध में आदेश जारी कर दिए जाएंगे। जिला स्तरीय समिति में हर जिले में एक उपाध्यक्ष व 20 सदस्य नियुक्त किए जा रहे हैं। इसी प्रकार ब्लॉक स्तर पर गठित होने वाली समिति में भी प्रदेश के सभी 95 ब्लाक में एक-एक उपाध्यक्ष और 20-20 सदस्यों की तैनाती की जा रही है। इस संबंध में अगले एक-दो दिन में शासन स्तर से आदेश जारी कर दिए जाने की संभावना है। सूत्रों के अनुसार उपाध्यक्षों में
बागेश्वर में देवकी नंदन जोशी,
रुद्रप्रयाग में शकुंतला जगवान,
देहरादून में दीवान सिंह रावत,
उत्तरकाशी में रामानंद भट्ट,
पिथौरागढ़ में किशन खड़ायत,
चंपावत में सुभाष थपलियाल,
ऊधमसिंह नगर में राम मल्होत्रा,
चमोली में सुधा बिष्ट,
नैनीताल में देवेंद्र सिंह ढेला,
टिहरी में दिनेश डोभाल,
अल्मोड़ा में मदन सिंह मेहरा,
पौड़ी में दिनेश सिंह रावत
हरिद्वार में डॉ. विजेंद्र सिंह
के नाम लगभग तय हैं। इसके अलावा हर जिले में गठित 20 सूत्रीय कार्यक्रम क्रियान्वयन समिति में 20-20 सदस्यों की भी तैनाती की जा रही है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के इस फैसले के बाद लोकसभा चुनाव को लेकर कार्यकर्ताओं को न सिर्फ नई एनर्जी मिलेगी बल्कि वह दुगने उत्साह से चुनाव में ताकत झोंकेगे। जल्द कुछ और कार्यकर्ताओं को भी जिम्मेदारी दी जाने की संभावना है।
Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close